Skip to main content

गोरिल्ला और चिंपैंजी (हिन्दी)

गोरिल्ला और चिंपैंजी (हिन्दी)
मानव के निकटतम जीवित संबंधी है कपि और बंदर ।कपि में और बन्दर में अंतर -बंदर आकार में छोटे होते हैं और उनकी पूंछ होती है जबकि कपि आकार में बड़े होते हैं और उनकी पूंछ नही होती। यदि हम ध्यान पूर्वक देखें तो हम पाते हैं कि मानव के शरीर और बंदरों के शरीर में काफी समानता होती है दोनों केसर गोल होते हैं मस्तिष्क विकसित होता है आंखें सामने की तरफ देखती हैं और मनुष्य और बंदर के कान भी एक समान ही होते हैं और उंगलियां भी होती हैंऔर साथ मे अंगूठे भी होते हैं यानी मनुष्य कपि और बंदर किसी चीज को अपने हाथ से अंगूठे की मदद से पकड़ सकते हैं ।कपि बंदर और मनुष्य एक ही श्रेणी के स्तनपायी हैं जिन्हें प्राइमेट कहा जाता है । बंदर के पूँछ होती है लेकिन कपि के पूँछ नहीं होती है इसलिए बंदर की तुलना में कपि मनुष्य के ज्यादा नजदीक है और इस अनुसार मनुष्य कपि की किसी जाति का वंशज है। परंतु मनुष्य के पूर्वज कपि आजकल के कपियों से भिन्न थे। ऐसा अनुमान लगाया जाता है कि लगभग दो करोड़ वर्ष पूर्व छोटे कपि दो वर्गों में बंट गए थे एक कपि का वर्ग जमीन पर रहने लगा जो आगे चलकर मनुष्य बना और दूसरा वर्ग जो पेड़ों पर रहता था वह आज का कपि है लेकिन फिर भी यह कपि हमारे निकटतम संबंधी है कपि के दो जो मुख्य प्रकार है वह है गोरिल्ला और चिंपांजी। गोरिल्ला सबसे विशालकाय कपि होता है  जो अफ्रीका के जंगलों में पाया जाता है जिसका कद लगभग 7 फीट होता है और वजन 200 किलोग्राम से ज्यादा होता है। गोरिल्ला काफी विशालकाय होता है और  काफी शक्तिशाली होता है इसके पूरे शरीर पर काले बाल होते हैं और खास बात ये कि बुढ़ापे में गोरिल्ला के सर के बाल भी सफेद हो जाते हैं मनुष्यो की तरह। गोरिल्ला के हाथ काफी लंबे होते हैं और इसके पैर मनुष्य की तरह ही  होते हैं लेकिन हाथों की तुलना में छोटे होते हैं ।गोरिल्ला चार पैरों पर भी चलता है और दो पर भी।गोरिल्ला जब गुस्से में आता है तब वह अपना सीना पीटता है ऐसा वह तब करता है जब वह हमला करने वाला होता है या जब उसका उद्देश्य अपने शत्रु को डराना होता है लेकिन आमतौर पर गोरिल्ला एक बहुत ही शांत प्राणी है और वह अकारण किसी पर हमला नहीं करता है ।गोरिल्ला एक सामूहिक प्राणी है और वह 10 से 20 सदस्यों के परिवार में रहता है गोरिल्ला परिवार का स्वामी एक नर होता है और सभी सदस्य उसकी आज्ञा का पालन करते हैं गोरिल्ला पेड़ों पर  मचान बनाकर रहते हैं और कभी-कभी वह जमीन पर भी मचान बनाते हैं और खास बात यह है कि मादा और बाकी बच्चे पेड़ पर बने मचान पर सोते हैं और गोरिल्ला उसी पेड़ के नीचे कमर लगा कर सोता है ताकि अगर कोई शत्रु हमला करें तो उसका मुकाबला करके मां और बच्चों को बचा सके। गोरिल्ला एक शाकाहारी जानवर है और वह फल फूल पत्तियों का सेवन करता है एक बहुत शक्तिशाली जानवर है और उसमें 10 मानवों के समान शक्ति होती है और वह सरलता से किसी भी मनुष्य की खोपड़ी तोड़ सकता है लेकिन गोरिल्ला हिंसक और आक्रामक जानवर नहीं है अगर उसे कोई मनुष्य दिखाई देता है तो उस पर हमला नहीं करता है जब तक कि वो मनुष्य हमला न करे।गोरिल्ला में बाकी जानवरों की तुलना में बुद्धि ज्यादा होती है लेकिन चिंपैंजी की तुलना में कम बुद्धि होती है और गोरिल्ला पालतू नहीं बनाया जा सकता है अगर गोरिल्ला पाला जाता है तो वह जल्दी ही मर जाता है और गोरिल्ला में नकल करने की क्षमता भी नहीं होती है। अब हम बात करते हैं चिंपैंजी की।चिंपैंजी गोरिल्ला की तुलना में काफी समझदार होता है आकार  में काफी छोटा होता है और यह काफी बुद्धिमान होता है और मनुष्य का निकट संबंध माना जाता है ।यह पेड़ों पर अधिक रहता है यह मुख्य रूप से फल खाता है लेकिन चिम्पांजी सर्वाहारी  होता है यानी मांस और फल फूल सब खा सकता है।और यह एक दल बनाकर रहता है जिसमें लगभग 100 सदस्य होते हैं चिंपैंजी हमेशा पेड़ों पर ही सोते हैं और रात में पेड़ों पर जमीन से 25 मीटर ऊंचा डालो को मोड़ कर सोने के लिए एक मचान तैयार करते हैं ।चिंपैंजी  मौका पाने पर छोटी जीवो को भी खा सकता है और वह कभी कभी चिंपांजी दूसरे चिंपांजी के  दलों पर भी हमला करके उनके इलाके पर कब्जा कर लेते हैं और उनके बच्चों को भी मार देते हैं ।चिंपैंजी उपकरणों का भी प्रयोग कर सकते हैं  अगर उचित प्रशिक्षण दिया जाए तो वे आरी से लकड़ी चीर सकते हैं पेचकश से पेच खोल सकते हैं कर सकते हैं और भी  काफी छोटे-मोटे काम कर सकते हैं चाबी से ताला भी खोल सकते हैं साइकिल भी चला सकते हैं इस हिसाब से देखा जाए तो चिंपैंजी मानव का निकटतम संबंधी है |

* This article was originally published here

Comments

Popular posts from this blog

चोर पक्षी महालत (हिन्दी) - Roofus Treepie Bird

महालत पक्षी संपूर्ण भारतवर्ष में पाया जाता है|इस पक्षी का स्थानीय नाम टकाचोर भी है... जो बहुत विचार पूर्वक रखा गया है...| महालत महोदय को चोरी में महारत हासिल है... जैसे ही छोटे बड़े पक्षी सुबह अपने घर से निकलते हैं दाना पानी प्रवास के लिए यह उनके घर में सेंधमारी कर देता है... भोजन छीन लेता है.. चुरा लेता है.... भोजन को छुपाने में भी माहिर है| आखिर यह कौवे के परिवार से जो आता है...| जो आदत कौवे की है वहीं इसकी है... या यूं कहे कौवे से भी बढ़कर है | खाने में सर्वाहारी है |वेज नॉनवेज सब कुछ हजम है... एकदम ताजा मरे हुए पशु का मांस बहुत प्रिय है इसको| यह पक्षी मीठी करकस भयानक अनेक तरीका की आवाज निकालने में माहिर है... पूरा दिन इसका ताका झांकी में ही जाता है.... आम के पेड़ व विशाल वृक्षों पर घोंसला बनाता है चटाई युक्त... इसका घोसला गहरा नहीं होता टू डाइमेंशनल होता है बेतरतीब| नर और मादा पक्षी को आप दोनों हाथ में लेकर भी नहीं पहचान सकते दोनों एकदम हूबहू होते हैं * This article was originally published here

वायरस

वायरस ग्रीक भाषा का शब्द है जिसका अर्थ है विष के सूक्ष्म अणु... जो सृष्टि की उत्पत्ति के दौरान से ही महासागरों के गहरे अंधेरे जल में... गंगा यमुना नील अमेज़न रिवर टेम्स नदी के पानी में बह रहे हैं...पूरी पृथ्वी पर इनकी एक महीन चादर बिछी हुई है ...प्रकृति में प्रति सेकंड अरबों खरबों वायरस उत्पन्न होते हैं नष्ट होते रहते हैं.. समुंदर के 1 लीटर पानी में ही 5000 टाइप के वायरस पाए जाते हैं अभी तक केवल 1% वायरस के विषय में अध्ययन किया सका है | वायरस ईश्वर निर्मित रचना है क्योंकि इनकी उत्पत्ति भी पृथ्वी पर जीवन के साथ ही हुई वायरस के अंदर भी वही जीवन का रसायन है जो हम मनुष्य जीवधारी ओ की कोशिकाओं में भरा होता है जिसे आप विज्ञान की भाषा में कोई भी नाम दे दे आरएनए या डीएनए| ईश्वर बिना प्रयोजन रचना नहीं रचता उसका सार्थक उद्देश्य होता है... इसे समझने के लिए वायरस या विषाणु से अलग हटकर थोड़ी चर्चा बैक्टीरिया जीवाणु पर कर लेते हैं बैक्टीरिया वायरस की तरह निर्जीव नहीं है वह एक कोशिकीय जीव है जो अपने आप प्रजनन करते हैं भोजन बनाते हैं नष्ट हो जाते हैं... बैक्टीरिया वायरस से स्थूल मोटे हो

Gorillas and Chimpanzee

The closest living relatives of humans are cupids and monkeys. Differences in chimpanzees and monkeys are small in size and have a tail, while chimpanzees are large in size and have no tail. If we look carefully, we find that there is a lot of similarity between the human body and the body of the monkeys. Both the saffron are round, the brain develops, the eyes look towards the front and the ears of man and monkey are also the same and There are also fingers and also thumbs, that is, humans and monkeys can hold anything with their hands with the help of thumbs. There are mammals called primate. The monkey has a tail but does not have a tail, so the man is much closer to the man than the monkey, and according to this, man is a descendant of some species of the cup. But the ancestors of human beings were different from those of today's people. It is estimated that about two crore years ago, small plants were divided into two sections, one square square living on the ground which la